इजहार हिंदी शायरी __ijhaar hindi shayari

जीवन में एक बार सभी ने किया  प्यार;
कुछ ने डर कर कुछ ने जोश में  किया इज़हार ;
मगर बिना बोले जब दो दिल  कह  जायें दिल  की बात;
वही है  नज़र का नज़र से सच्चा इक़रार.....

Jeewan main Ek bar sabhi ne kiya pyar .
Kuch ne dar kar kuch ne josh main kiya ijhar ,
Magar bina bole jab kah jaye dil ki bat ,
Wahi hai najar ka najar se sachha ekraar....

एक ख्वाइश सिरहाने  रख दो ना;
आज मुझ पे तुम इनायत कर दो ना;
 ज़रा चुपके से खामोशी से;
तुम इजहारे -ए-मोहब्बत  कर दो ना ....

Ek  Khuwahish sirhane rakh do naa,
Aaj mujh pe tum enayat kar do naa ,
Jara chupke se khamoshi se ,
Tum ijhaar- E-  mohabbat  kar dona naa.....

जिसको  चाहो  उसे चाहत  बता भी देना;
कितना प्यार है  उससे यह  जता भी देना;
यूँना ना हो की उसका दिल कही और लग जाए;
करके इजहार  उसके दिल को चुरा भी लेना ...

Jisko chaho use chahat bata bhi dena  ,
Litna pyar hai usse yah jataa bhi dena ,
Yun naa ho ki uska dil kahi or lag jaye ,
karke ijhaar uske dil ko chura bhi lena ....

0 comments: