कोई आँखों आँखों मैं बात कर लेता है

कोई आँखों आँखों मैं बात कर लेता है
कोई आँखों आँखों मैं मुलाकात कर लेता है
मुश्किल रहता है जवाब देना जब कोई
खामोश रहकर भी सवाल कर लेता है
===========================

दिखते है वो रोज मुलाकात भी होती है
वारदात ये अक्सर मेरे साथ होती है
आज सुबह कह देंगे हाल-ए-दिल मगर
जुबाँ लड़खड़ा जाती है जब भी कभी बात होती है

================================

0 comments: