उसको चाहा पर इजहार करना नहीं आया

उसको चाहा पर इजहार करना नहीं आया
कट गयी उम्र मगर प्यार करना नहीं आया
उसने कुछ माँगा भी तो मांगी जुदाई
और हमें इंकार करना नहीं आया
===========================
वो पानी का एक कतरा है
जो आँखों से बह जाये
आंसू तो वो है जो तड़प के
आँखों मैं ही मर जाये
==================

0 comments: