जिसके इंतजार के मारे है हम

जिसके इंतजार के मारे है हम
बस उसकी यादों के सहारे है हम
दुनिया जीत के अब करना है क्या
जिसे जीतना था उसी से हारे है हम..
========================

0 comments: