दिल मैं हमने तुम्हारे प्यार की दास्तान लिखी है ,

दिल मैं हमने तुम्हारे प्यार की दास्तान लिखी है ,
ना थोड़ी ना तमाम लिखी है
कभी हमारे लिए भी दुआ कर लिया करो सनम
हमने तो हर इक साँस तुम्हारे नाम लिखी है

=============================
गले मिला है वो मस्त - ए - शबाब बरसों मैं ,
हुआ है दिल को सुरूर - ए - शराब बरसों मैं
निगाह - ए - मस्त से उस की हुआ है यह हल मेरा ,
की जैसे पि हो किसी शराब बरसों मैं !
================================= 

0 comments: