उसके साथ रहते - रहते ,उसकी चाहत सी हो गयी है

उसके साथ रहते - रहते ,उसकी चाहत सी हो गयी है
उस से बात करते करते ,उसकी आदत सी हो गयी
एक पल ना मिले तो बेचैनी सी लगती है
दोस्ती निभाते - निभाते ,उस से मोह्हबत सी हो गयी

====================================
जिसको चाहो उसे बता भी देना
कितना प्यार है उससे यह जता भी देना
यूँ ना हो की उसका दिल कही और लग जाये
करके इजहार उसके दिल को चुरा भी लेना
================================
आँखों की गहराई  को समझ नहीं सकते
होंठो से कुछ कह नहीं सकते
कैसे बयाँ करे हम आपको यह दिल का हाल है
तुम ही हो जिसके बिना हम रह नहीं सकते
===============================इसे भी पढ़े


0 comments: