हर एक जज्बात को जुबान नहीं मिलती

हर एक जज्बात को जुबान नहीं मिलती
हर एक आरजू को दुआ नहीं मिलती
मुस्कराहट बनाये रखो तो दुनिया है साथ
आंसुओ को तो आँखों में भी पनाह नहीं मिलती
=================================

0 comments: