two line shayari

ग़मों की बदली ये मुझ पार बरस गई
आपसे मिलने को आंखे मेरी तरस गई

========================
दें देंगे अपनी जान हमें मुस्कुरा के देख
उम्र भर साथ निभाएंगे  दिल लगा के देख

==========================
कभी यादों मैं आते है कभी ख्यालों मैं आते है
ऐसी जगह बता दो जहाँ वो याद न आये

============================
प्यार तो करते है पर हमसे छुपा लेते है
दिल की बात होंठो पे दबा लेते है

===========================
नादान आशिक पर न सितम  ढहाया करो तुम
मासूम आशिक को न जलाया करो तुम

=============================

0 comments: