आंशु गिरने की आहट नहीं होती

नहीं मिलता गम मोहब्बत मैं तो बर्बादी के अफ़साने कहा जाते
हर तरफ होती ख़ुशी तो यह वीराने कहा जाते
ये तो अच्छा की तुम गैर निकले ,
सब अगर अपने होते तो बेगाने कहा जाते
===============================
आंशु गिरने की आहट नहीं होती
दिल टूटने की आवाज नहीं होती
अगर होता उन्हें एहसास दर्द का
तो दिल तोड़ने की उनकी आदत न होती

================================


0 comments: