कोई गिला ना कोई शिकवा हम तुझसे करेंगे
इस ज़माने मैं रुसवा ना हम तुझको करेंगे
नफरत है गर तुझे इन गुस्ताख निगांहो से
हम तुझे दूर से भी अब ना देखा करेंगे
=======================

0 comments: