फूल खिलते बहारों का समां होता है

ऐसे ही मोसम मैं तो प्यार जबां होता है 

दिल की बातों को होंठो से नहीं  कहते ,

यह फ़साना तो आँखों से बयाँ होता है

========================

0 comments: