फूल बाग़ मैं खिलते है

दोस्त जहान मैं मिलते है

पर हमें मत भूलना क्यूंकि

हम जैसे प्यार करने वाले बड़े नसीब से मिलते है

===============================

0 comments: