आँखों की जुबान वो समझ नहीं पाते

आँखों की जुबान वो समझ नहीं पाते
होंठ मगर कुछ कह नहीं पाते
अपनी बेबसी किस तरह से कहे
तेरे दीदार बिना हम रह नहीं पाते
======================

0 comments: